• 301,302 Choice A Apartment, Opposite Ruby Hall, BS Dhole Patil Path, Pune, Maharashtra 411001
  • Mon - Sat 8.00 - 18.00. Sunday CLOSED

Category Archives: Video

Can Heart Attack Be Genetic? Dr. Rahul Patil | Cardiologist

In this video Dr. Rahul Patil has answered an important question about, is there a chance that if my father got an heart attack will I get a heart attack too in the future?

The answer for the question is YES.
If your parents for an heart attack at an early age, mother less than 65 years of age and father less than 60 years of age. Then the change of an heart attack in children is almost 10 years earlier than their parents. There are heart attack that run in family and that heart attack are due to Familial hypercholesterolemia. There is a diseases entity known as Family high cholesterol levels and this is due to some genetic change in enzyme, which usually clear the bad enzymes from blood. So these are the patents who are very difficult to treat and very high cholesterol levels, but today with the use to this technology this can definitely treat these patients. As per my knowledge of 15 years of my practice. I have seen a 9 years old girl to get an heart attack because of familial cholesterol level diseases. Young patients getting heart attack is usually genetically linked. To disturb the genetics usually smoking is the reason in young mens to get an heart attack, who have a family history of heart attack.

If someone in your family has got an heart attack at an early age, then you need to evaluate yourself. Those who have crossed 30 years of age need do some blood test
1. Lipid Profile
2. Blood Sugar
3. Homocysteine
4. HSCRP
5. Lipoproteins A

These are the blood tests that are not generally prescribed but if you do this can help you prevent an heart attack at an early stage.

After you perform the above tests meet your cardiologist he will do the basic workup of
1. ECG
2. 2D Echocardiology
3. Color Doppler
4. Stress test
Which will help us evaluate the chances of getting an heart attack. So take all the possible care of yourself to not get an heart attack and to not transfer this to your own family in the future before the age of 65 years.

To know more about heart and heart attack, stay tuned to our YouTube channels.
You can also contact us on
Phone No. 020 26161553
Website: https://www.bestcardiologistpune.com/
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

The language used in this video is #English.

Don’t forget to subscribe to our channel:
https://www.youtube.com/channel/UCj8f…

▬Social Links ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

Follow me on other platforms:
Facebook: https://www.facebook.com/Bestcardiolo…
Instagram: https://www.instagram.com/dr_rahul_pa…

▬ About Dr. Rahul Patil ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Dr. Rahul Raosaheb Patil is one of the best cardiologist in Pune, India. He is an accomplished
Interventional Cardiologist, practicing since 2006. He is also the Director and Interventional Cardiologist at Hridayam Heart Clinic in Pune. He has been serving as a Consulting Cardiologist at Ruby Hall Clinic since 2006.

To know more about heart and heart health, stay tuned to our YouTube channels.

Thank you!

क्या हार्ट अटैक अनुवांशिक हो सकता है? डॉ. राहुल पाटिल | हृदय रोग विशेषज्ञ

इस वीडियो में डॉ. राहुल पाटिल ने एक महत्वपूर्ण प्रश्न का उत्तर दिया है, क्या मेरे पिता को दिल का दौरा पड़ने की संभावना है कि क्या मुझे भविष्य में भी दिल का दौरा पड़ेगा?

प्रश्न का उत्तर हाँ है।
अगर आपके माता-पिता को कम उम्र में दिल का दौरा पड़ता है, तो मां की उम्र 65 साल से कम है और पिता की उम्र 60 साल से कम है। फिर बच्चों में हार्ट अटैक का बदलाव उनके माता-पिता की तुलना में लगभग 10 साल पहले होता है। दिल का दौरा पड़ता है जो परिवार में चलता है और दिल का दौरा पारिवारिक हाइपरकोलेस्ट्रोलेमिया के कारण होता है। एक रोग इकाई है जिसे पारिवारिक उच्च कोलेस्ट्रॉल स्तर के रूप में जाना जाता है और यह एंजाइम में कुछ आनुवंशिक परिवर्तन के कारण होता है, जो आमतौर पर रक्त से खराब एंजाइम को साफ करता है। तो ये ऐसे पेटेंट हैं जिनका इलाज करना बहुत मुश्किल है और कोलेस्ट्रॉल का स्तर बहुत अधिक है, लेकिन आज इस तकनीक के उपयोग से इन रोगियों का इलाज निश्चित रूप से हो सकता है। मेरे अभ्यास के 15 वर्षों के बारे में मेरी जानकारी के अनुसार। मैंने 9 साल की एक लड़की को पारिवारिक कोलेस्ट्रॉल स्तर की बीमारियों के कारण दिल का दौरा पड़ते देखा है। दिल का दौरा पड़ने वाले युवा रोगियों को आमतौर पर आनुवंशिक रूप से जोड़ा जाता है। आनुवंशिकी को बिगाड़ने के लिए आमतौर पर धूम्रपान युवा पुरुषों में दिल का दौरा पड़ने का कारण होता है, जिनके परिवार में दिल का दौरा पड़ने का इतिहास होता है।

अगर आपके परिवार में किसी को कम उम्र में दिल का दौरा पड़ा है, तो आपको खुद का मूल्यांकन करने की जरूरत है। 30 साल की उम्र पार कर चुके लोगों को ब्लड टेस्ट कराने की जरूरत है
1. लिपिड प्रोफाइल
2. रक्त शर्करा
3. होमोसिस्टीन
4. एचएससीआरपी
5. लिपोप्रोटीन ए

ये रक्त परीक्षण हैं जो आमतौर पर निर्धारित नहीं होते हैं लेकिन यदि आप ऐसा करते हैं तो आपको प्रारंभिक अवस्था में दिल के दौरे को रोकने में मदद मिल सकती है।

आपके द्वारा उपरोक्त परीक्षण करने के बाद अपने हृदय रोग विशेषज्ञ से मिलें, वह मूल कार्य करेगा
1. ईसीजी
2. 2डी इकोकार्डियोलॉजी
3. रंग डॉपलर
4. तनाव परीक्षण
जो हमें दिल का दौरा पड़ने की संभावना का मूल्यांकन करने में मदद करेगा। इसलिए दिल का दौरा न पड़ने के लिए अपना हर संभव ख्याल रखें और भविष्य में 65 वर्ष की आयु से पहले इसे अपने परिवार में स्थानांतरित न करें।

▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
दिल और दिल के दौरे के बारे में अधिक जानने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल पर बने रहें।
आप हमसे फोन नंबर : 020 26161553

Don’t forget to subscribe to our channel:
https://www.youtube.com/channel/UCj8f…

▬Social Links ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

Follow me on other platforms:
Facebook: https://www.facebook.com/Bestcardiolo…
Instagram: https://www.instagram.com/dr_rahul_pa…

▬ About Dr. Rahul Patil ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Dr. Rahul Raosaheb Patil is one of the best cardiologist in Pune, India. He is an accomplished
Interventional Cardiologist, practicing since 2006. He is also the Director and Interventional Cardiologist at Hridayam Heart Clinic in Pune. He has been serving as a Consulting Cardiologist at Ruby Hall Clinic since 2006.

To know more about heart and heart health, stay tuned to our YouTube channels.

Thank you!

What’ the Relation Between Sleep & Heart Attack? Dr. Rahul Patil | Best Cardiologist in Pune

In this video Dr. Rahul Patil has spoken about the relation between sleep and heart attack.

In general a human being need around 6 – 9 hours of sound sleep. This is the time when the body secrets the Melatonin Hormone. This is the hormone that regulates the sleep and cell repair.
If someone sleeps less than 6 hours a day there is a rise in Epinephrine & Nonepinephrine Stress Hormone. These are the hormone which will cause in increase in HSCRP levels, which will cause stiffening of blood vessels of the heart, increase in insulin resistance, it will cause high pressures and blood clot formation. This is the mechanism that can cause heart attacks in a person who sleeps less than 6 hours a day.

Recently conducted survey in twenty thousand population, which was published in American Journal of Cardiology. The population where American and British, it was found that those people who were sleeping less than 6 hours a day, they increased the chance of getting heart attack by 20 %. On the contrary those people who are sleeping more than 9 hours a day the heart attack rate increases by 36 %.

But hose people who are sleeping regularly between 6 – 9 hours a day the risk of getting heart attack was reduced by 18 %. What do you mean by regular and routine sleep? Some people may sleep at 12 at mid night and get up at 7 A.M. Some people may sleep at 10P.M. at night and get up 5 A.M in the morning and some day at 10 A.M or 6 A.M.

It is not a regular sleep. Despite this irregularity it was seen that you may complete 7 hours of good sleep but because of poor regularity in your sleep you still carry a high risk of heart attack. The reason was said that the melatonin realize of hormone was insufficient to regulate your cell repair and sleep. So you have to regulate your sleep pattern by sleeping at particular time and getting up absolutely on time in morning.

These are some of the tips to get you a sound sleep and regulate your sleep pattern:

1. Inculcate a habit of waking up at a particular time in the morning, once you do that the sleep will automatically be regulated at night at a given time.

2. Daily exercise for 45 minutes to 1 Hour will cause fatigue and that will also increase melatonin hormone and could regulate your sleep.

3. The room in which you sleep should be absolutely dark and sound proof.

4. The cellphone, laptops and T. V. Screens should be avoided 1 hour prior to the sleep, these are devices that release the ultraviolet B rays and will decrease the realize of melatonin hormone, which regulates your sleep.

If you would follow these instructions, your sleep will be absolutely fine and you will reduce your risk of heart attack by 20%. To know more about heart attack and treatment you can contact me on the given number or visit the website.

To know more about heart and heart attack, stay tuned to our YouTube channels.
You can also contact us on
Phone No. 020 26161553
▬ Watch The Same Video in Hindi ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
You can also watch this video in Hindi by clicking on the below link:
https://youtu.be/2cl_HmtY-sk

▬Contact Information ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Website: https://www.bestcardiologistpune.com/
Phone No. 020 26161553

Don’t forget to subscribe to our channel:
https://www.youtube.com/channel/UCj8f…

▬Social Links ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

Follow me on other platforms:
Facebook: https://www.facebook.com/Bestcardiolo…
Instagram: https://www.instagram.com/dr_rahul_pa…

▬ About Dr. Rahul Patil ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Dr. Rahul Raosaheb Patil is one of the best cardiologist in Pune, India. He is an accomplished
Interventional Cardiologist, practicing since 2006. He is also the Director and Interventional Cardiologist at Hridayam Heart Clinic in Pune. He has been serving as a Consulting Cardiologist at Ruby Hall Clinic since 2006.

To know more about heart and heart health, stay tuned to our YouTube channels.

Thank you!

क्या है नींद और दिल के दौरे के बीच का संबंध? डॉ. राहुल पाटिल | हृदय रोग विशेषज्ञ

इस वीडियो में डॉ. राहुल पाटिल ने नींद और दिल के दौरे के बीच संबंध के बारे में बताया है।

सामान्य तौर पर एक इंसान को लगभग 6-9 घंटे की गहरी नींद की जरूरत होती है। यह वह समय है जब शरीर मेलाटोनिन हार्मोन का स्राव करता है। यह हार्मोन है जो नींद और कोशिका की मरम्मत को नियंत्रित करता है।
यदि कोई व्यक्ति दिन में 6 घंटे से कम सोता है तो एपिनेफ्रीन और नोनपाइनफ्राइन तनाव हार्मोन में बढ़ोतरी होती है। ये हार्मोन हैं जो एचएससीआरपी के स्तर में बढ़ोतरी का कारण बनेंगे, जिससे हृदय की रक्त वाहिकाओं में अकड़न होगी, इंसुलिन प्रतिरोध में बढ़ोतरी होगी, यह उच्च दबाव और रक्त के थक्के बनने का कारण बनेगा। यह वह तंत्र है जो दिन में 6 घंटे से कम सोने वाले व्यक्ति में दिल के दौरे का कारण बन सकता है।

बीस हजार की आबादी में हाल ही में किया गया सर्वे, जो अमेरिकन जर्नल ऑफ कार्डियोलॉजी में प्रकाशित हुआ था। आबादी जहां अमेरिकी और ब्रिटिश, यह पाया गया कि जो लोग दिन में 6 घंटे से कम सो रहे थे, उनमें दिल का दौरा पड़ने की संभावना 20% बढ़ गई। इसके विपरीत जो लोग दिन में 9 घंटे से ज्यादा सोते हैं उनमें हार्ट अटैक की दर 36 प्रतिशत तक बढ़ जाती है।

लेकिन जो लोग रोजाना 6 से 9 घंटे के बीच नियमित रूप से सोते हैं, उनमें हार्ट अटैक होने का खतरा 18% कम हो जाता है। नियमित नींद से आप क्या समझते हैं? कुछ लोग आधी रात को 12 बजे सोते हैं और सुबह 7 बजे उठते हैं। कुछ लोग रात 10 बजे सोते हैं और सुबह 5 बजे उठतेऔर किसी दिन सुबह 10 बजे या सुबह 6 बजे उठेंते हैं।

यह नियमित नींद नहीं है। इस अनियमितता के बावजूद यह देखा गया कि आप 7 घंटे की अच्छी नींद पूरी कर सकते हैं, लेकिन आपकी नींद में नियमितता की कमी के कारण आपको अभी भी दिल का दौरा पड़ने का खतरा बना रहता है। कारण कहा गया था कि मेलाटोनिन हार्मोन का एहसास आपके सेल की मरम्मत और नींद को नियंत्रित करने के लिए अपर्याप्त था। इसलिए आपको एक खास समय पर सोने और सुबह बिल्कुल समय पर उठकर अपनी नींद के पैटर्न को नियंत्रित करना होगा।

आपको अच्छी नींद दिलाने और अपनी नींद के पैटर्न को नियंत्रित करने के लिए ये कुछ सुझाव हैं:

1. सुबह एक निश्चित समय पर जागने की आदत डालें, एक बार ऐसा करने से रात में एक निश्चित समय पर नींद अपने आप नियमित हो जाएगी।

2. 45 मिनट से 1 घंटे तक रोजाना व्यायाम करने से थकान होगी और इससे मेलाटोनिन हार्मोन भी बढ़ेगा और यह आपकी नींद को नियंत्रित कर सकता है।

3. जिस कमरे में आप सोते हैं वह बिल्कुल अंधेरा और साउंड प्रूफ होना चाहिए।

4. सोने से 1 घंटे पहले सेलफोन, लैपटॉप और टीवी स्क्रीन से बचना चाहिए, ये ऐसे उपकरण हैं जो पराबैंगनी बी किरणों को छोड़ते हैं और मेलाटोनिन हार्मोन के एहसास को कम करेंगे, जो आपकी नींद को नियंत्रित करता है।

यदि आप इन निर्देशों का पालन करते हैं, तो आपकी नींद बिल्कुल ठीक हो जाएगी और आप अपने दिल के दौरे के जोखिम को 20% तक कम कर देंगे। हार्ट अटैक और इलाज के बारे में अधिक जानने के लिए आप मुझसे दिए गए नंबर पर संपर्क कर सकते हैं या वेबसाइट पर जा सकते हैं।

▬ Watch The Same Video in Hindi ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
You can also watch this video in Hindi by clicking on the below link:
https://youtu.be/2cl_HmtY-sk

▬Contact Information ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Website: https://www.bestcardiologistpune.com/
Phone No. 020 26161553

Don’t forget to subscribe to our channel:
https://www.youtube.com/channel/UCj8f…

▬Social Links ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

Follow me on other platforms:
Facebook: https://www.facebook.com/Bestcardiolo…
Instagram: https://www.instagram.com/dr_rahul_pa…

▬ About Dr. Rahul Patil ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Dr. Rahul Raosaheb Patil is one of the best cardiologist in Pune, India. He is an accomplished
Interventional Cardiologist, practicing since 2006. He is also the Director and Interventional Cardiologist at Hridayam Heart Clinic in Pune. He has been serving as a Consulting Cardiologist at Ruby Hall Clinic since 2006.

To know more about heart and heart health, stay tuned to our YouTube channels.

Thank you!

क्या ईसीजी हार्ट अटैक का निदान कर सकता है? | डॉ. राहुल पाटिल | बेस्ट कार्डियोलॉजिस्ट पुणे

इस वीडियो में डॉ. राहुल पाटिल – हृदय रोग विशेषज्ञ ने दिल के दौरे के निदान के लिए ईसीजी की आवश्यकता के बारे में बताया है।

हाल ही में डॉ. पाटिल के एक मरीज ने उनसे पूछा, “क्या दिल के दौरे के निदान के लिए ईसीजी आवश्यक है?”

दिल के दौरे का निदान करने के लिए डॉक्टर या हृदय रोग विशेषज्ञ को 3 चीजों की आवश्यकता होती है:
1. मरीज के लक्षण
2. ईसीजी
3. रक्त परीक्षण

यदि कोई भी 3 चीजों में से 2 भी मौजूद हों तो यह दिल के दौरे की पुष्टि करता है। चूंकि दिल के दौरे के लक्षण अलग-अलग लोगों में अलग-अलग होते हैं इसलिए हमें ईसीजी और रक्त परीक्षण के साथ इसके निदान की आवश्यकता होती है।

दिल के दौरे के शास्त्रीय लक्षण हैं
1. सीने में भारीपन जो बाएं कंधे या दाएं कंधे और बाएं हाथ तक जाता है, ऐसा भी महसूस होता है कि कोई आपकी छाती पर बैठा है।
2. पसीना आना
3. चक्कर आना
4. जी मिचलाना
5. उल्टी

ये दिल के दौरे के शास्त्रीय लक्षण हैं जो 20-30 मिनट तक रहते हैं और समय के साथ बढ़ते जाते हैं। 70% रोगी दिल के दौरे के शास्त्रीय लक्षण दिखा सकते हैं, जबकि 20% रोगी अम्लता, कंधे के दर्द, जबड़े के दर्द या पीठ दर्द के गंभीर रूप के साथ उपस्थित हो सकते हैं।
चूंकि अलग-अलग लोगों में लक्षण अलग-अलग होते हैं, इसलिए हमें पुष्टि करने के लिए ईसीजी की आवश्यकता होती है। सीने में तकलीफ की शुरुआत से लेकर अगर ईसीजी पहले 2 घंटों में किया जाता है, तो ईसीजी बिल्कुल सामान्य हो सकता है। उस मामले में आपको निदान की पुष्टि करने के लिए हर आधे घंटे में ईसीजी दोहराने के लिए आपातकालीन या आकस्मिक विभाग में रहने की जरूरत है। पहले 2 घंटों में ईसीजी सामान्य हो सकता है, कभी-कभी यह देखा गया है कि सीने में दर्द की शुरुआत से 6 घंटे तक ईसीजी सामान्य हो सकता है। इसलिए पहले 6 घंटों में इस बात की बहुत अधिक संभावना है कि दिल का दौरा छूट सकता है। इसलिए हर अस्पताल आपको सलाह देगा कि आप रुकें और ईसीजी दोहराएं। साथ ही एक रक्त परीक्षण जिसे हाई सेंसिटिविटी ट्रोपोनिन टेस्ट या ट्रॉप I टेस्ट कहा जाता है, अगर यह परीक्षण दिल का दौरा पड़ने के पहले 6 घंटों में सकारात्मक है यह दिल के दौरे की पुष्टि करता है।

इनमें से 3
1. सीने में दर्द
2. ईसीजी
3. रक्त परीक्षण
यदि दो सकारात्मक हैं तो यह दिल के दौरे की उपस्थिति की पुष्टि करता है।

दिल और दिल के दौरे के बारे में अधिक जानने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल पर बने रहें।
आप हमसे फोन नंबर : 020 26161553
▬ Watch The Same Video in Hindi ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
You can also watch this video in Hindi by clicking on the below link:
https://youtu.be/2cl_HmtY-sk

▬Contact Information ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Website: https://www.bestcardiologistpune.com/
Phone No. 020 26161553

Don’t forget to subscribe to our channel:
https://www.youtube.com/channel/UCj8f…

▬Social Links ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

Follow me on other platforms:
Facebook: https://www.facebook.com/Bestcardiolo…
Instagram: https://www.instagram.com/dr_rahul_pa…

▬ About Dr. Rahul Patil ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Dr. Rahul Raosaheb Patil is one of the best cardiologist in Pune, India. He is an accomplished
Interventional Cardiologist, practicing since 2006. He is also the Director and Interventional Cardiologist at Hridayam Heart Clinic in Pune. He has been serving as a Consulting Cardiologist at Ruby Hall Clinic since 2006.

To know more about heart and heart health, stay tuned to our YouTube channels.

Thank you!

Can ECG Detect Heart Attack? | Dr. Rahul Patil | Best Cardiologist Pune

In this video Dr. Rahul Patil – Cardiologist in Pune, India has spoken about the need of ECG for diagnosis of a heart attack.

Recently a patient of Dr. Patil asked him “Is ECG Necessary for Diagnosis of a Heart Attack?”

To make a diagnosis of heart attack a doctor or a cardiologist needs 3 things:
1. Patients Symptoms
2. ECG
3. Blood Tests

If out of the above 3 things, even 2 are present it confirms heart attack. As the symptoms of heart attack are different in different people so we need supportive diagnosis of it with ECG and blood test.

The classical symptoms of a heart attack is
1. Heaviness in the chest which goes to left shoulder or right shoulder and left hand, also feels like someone is sitting on your chest.
2. Sweating
3. Giddiness
4. Nausea
5. Vomiting

These are classical symptoms of heart attack that last for 20 – 30 minutes and increases with time. 70% patients may show classical symptoms of heart attack where as 20 % patient may present with just a severe form of acidity, shoulder pain, jaw pain or a back pain.
As symptoms are different in different people that’s the reason we need ECG to confirm. From the onset of chest discomfort if the ECG is done in first 2 hours, ECG may be absolutely normal. In that case you need to stay back in emergency or casualty department to repeat ECG in every half an hour to confirm the diagnosis. With in first 2 hours ECG could be normal, sometimes it has been seen that up to 6 hours ECG could be normal from the onset of chest pain. So in first 6 hours there are high chances that an heart attack can be missed. So every hospital will advice you to stay back and repeat the ECG. At the same time a blood test called high sensitivity Troponin Test or Trop I Test if this test is positive in first 6 hours of onset of heart attack it confirms heart attack.

Out of these 3
1. Chest Pain
2. ECG
3. Blood Test
If two are positive it confirm the presence of heart attack.
▬ Watch The Same Video in Hindi ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
You can also watch this video in Hindi by clicking on the below link:
https://youtu.be/2cl_HmtY-sk

▬Contact Information ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Website: https://www.bestcardiologistpune.com/
Phone No. 020 26161553

Don’t forget to subscribe to our channel:
https://www.youtube.com/channel/UCj8f…

▬Social Links ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

Follow me on other platforms:
Facebook: https://www.facebook.com/Bestcardiolo…
Instagram: https://www.instagram.com/dr_rahul_pa…

▬ About Dr. Rahul Patil ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Dr. Rahul Raosaheb Patil is one of the best cardiologist in Pune, India. He is an accomplished
Interventional Cardiologist, practicing since 2006. He is also the Director and Interventional Cardiologist at Hridayam Heart Clinic in Pune. He has been serving as a Consulting Cardiologist at Ruby Hall Clinic since 2006.

To know more about heart and heart health, stay tuned to our YouTube channels.

Thank you!

दिल के बारे में ८ आश्चर्यजनक तथ्य | डॉ. राहुल पाटिल – हृदय रोग विशेषज्ञ | Dr. Rahul Patil

इस वीडियो में पुणे के एक हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. राहुल पाटिल ने दिल के बारे में ८ रोचक तथ्य बताए हैं:

1. एक औसत हृदय प्रति मिनट 60 – 90 बार धड़कता है और प्रति मिनट लगभग 4-5 लीटर रक्त पंप करता है।

2. औसतन, यह प्रति दिन लगभग 1 लाख बार बीट कर सकता है और प्रति दिन लगभग 7600 – लीटर रक्त पंप कर सकता है।

3. रक्त, रक्त वाहिकाओं के माध्यम से पूरे शरीर में यात्रा करता है, और यदि आप इन रक्त वाहिकाओं को फैलाने जा रहे हैं, तो वे लगभग 9600 किमी लंबी हैं, जहां आप दो बार दुनिया का चक्कर लगा सकते हैं।

4. हृदय एटीपी (एडेनोसिन ट्राइफॉस्फेट) उत्पन्न करता है; यह रक्त को पंप करने की ऊर्जा है। हृदय प्रतिदिन लगभग 25 किलोग्राम एटीपी उत्पन्न करता है। एक सामान्य हृदय को रक्त पंप करने के लिए कुल रक्त में से केवल 5% रक्त की आवश्यकता होती है।

5. हृदय एकमात्र ऐसा अंग है जो लगभग 70% ऑक्सीजन की खपत करता है, जबकि पूरा शरीर रक्त की ऑक्सीजन का लगभग 25 – 30% ही खपत करता है।

6. महिलाओं में पुरुषों की तुलना में लगभग 6 – 8 बीट अधिक होती है। सामान्य तौर पर महिलाएं 45 साल की उम्र तक हार्ट अटैक से सुरक्षित रहती हैं, जब उनकि मासिक धर्म नियमित होता है। रजोनिवृत्ति के बाद पुरुष और महिला में दिल का दौरा पड़ने का खतरा समान होता है। लेकिन अगर महिला को मधुमेह या धूम्रपान है, तो पुरुषों की तुलना में महिलाओं में दिल का दौरा पड़ने का खतरा अधिक होता है।

7. आमतौर पर हर इंसान शनिवार और रविवार को आराम करता है, लेकिन हार्ट अटैक के मामले सबसे ज्यादा सोमवार को देखने को मिलते हैं। हम नहीं जानते, लेकिन कहा जाता है कि अधिक शराब या देर रात तक पार्टी करना सोमवार को हार्ट अटैक का कारण हो सकता है।

8. ज्यादातर हार्ट अटैक सुबह के समय, सुबह 4 बजे से सुबह 6 बजे के बीच होते हैं। इसका वैज्ञानिक कारण यह है कि यही वह समय होता है जब शरीर में रक्त का थक्का जमने का स्तर अधिक होता है।

दिल और दिल के दौरे के बारे में अधिक जानने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल पर बने रहें।
आप हमसे फोन नंबर : 020 26161553

▬ Watch The Same Video in Hindi ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
You can also watch this video in Hindi by clicking on the below link:
https://youtu.be/2cl_HmtY-sk

▬Contact Information ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Website: https://www.bestcardiologistpune.com/
Phone No. 020 26161553

Don’t forget to subscribe to our channel:
https://www.youtube.com/channel/UCj8f…

▬Social Links ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

Follow me on other platforms:
Facebook: https://www.facebook.com/Bestcardiolo…
Instagram: https://www.instagram.com/dr_rahul_pa…

▬ About Dr. Rahul Patil ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Dr. Rahul Raosaheb Patil is one of the best cardiologist in Pune, India. He is an accomplished
Interventional Cardiologist, practicing since 2006. He is also the Director and Interventional Cardiologist at Hridayam Heart Clinic in Pune. He has been serving as a Consulting Cardiologist at Ruby Hall Clinic since 2006.

To know more about heart and heart health, stay tuned to our YouTube channels.

Thank you!

क्या होता है सड़न कार्डियक अरेस्ट? What is Sudden Cardiac Arrest? डॉ राहुल पाटील | दृदय रोग तदन्या

इस वीडियो में डॉ राहुल पाटिल ने अचानक कार्डियक अरेस्ट के बारे में जानकारी शेयर है|

सडन कार्डिएक अरेस्ट एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपका दिल अचानक से धड़कना बंद कर देता है और अचानक मौत हो जाती है। यह दिल में एक विद्युत खराबी से शुरू होता है जो अनियमित दिल की धड़कन का कारण बनता है। कार्डिएक अरेस्ट ज्यादातर 40 – 60 की उम्र के बीच के लोगों में देखा जाता है। यह पुरुषों और धूम्रपान करने वालों में महिलाओं की तुलना में अधिक होता है।

भारत में हर साल लगभग 5-10 करोड़ लोगों की अचानक हृदय गति रुकने से मृत्यु हो जाती है, जबकि अमेरिका में 3-5 लाख लोग हृदय गति रुकने से मर जाते हैं।

भारत की जनसंख्या अमेरिका की तुलना में 4 गुना अधिक है, यह भी देखा गया है कि भारतीय लोगों को अमेरिकी आबादी की तुलना में 10 साल पहले दिल का दौरा पड़ता है और अचानक कार्डियक अरेस्ट से होने वाली मृत्यु का दर भी अधिक होती है, जो 10 – 15 लाख है।

यह दर एड्स, फेफड़ों के कैंसर और स्तन कैंसर की तुलना में अधिक है। इतना सब होने के बाद भी इस बारे में जन जागरूकता की पहल किसी ने नहीं की है।

जब किसी सेलेब्रिटी की अचानक दिल की बीमारी से मौत हो जाती है। फिर लोग इस बारे में चर्चा करते हैं कि यह कैसे हुआ और कुछ समय बाद इसे भूल जाते हैं।

सड़न कार्डियक अरेस्ट के लक्षण दिखने के 1 घंटे के भीतर जिन लोगों की मृत्यु हो जाती है, उन्हें अचानक कार्डियक अरेस्ट के रूप में जाना जाता है।

लक्षण:
1. चक्कर आना
2. अत्यधिक पसीना आना
3. सीने में दर्द
4. कमजोरी

यदि आप ऊपर में से किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं तो तुरंत हृदय रोग विशेषज्ञ से परामर्श लें
लगभग 50% लोगों में, कार्डियक अरेस्ट से 1 सप्ताह पहले प्रमुख लक्षण दिखाई देने लगते हैं।

कार्डिएक अरेस्ट और हार्ट अटैक के निदान के लिए टेस्ट
1. ईसीजी परीक्षण
2. 2डी इको
3. रंग डॉपलर
4. तनाव परीक्षण

कार्डियक अरेस्ट और हार्ट अटैक के बीच अक्सर लोग भ्रमित हो जाते हैं:

अचानक कार्डिएक अरेस्ट आपके दिल की विद्युत प्रणाली में एक समस्या है, जो आपके हृदय की पंपिंग
क्रिया को बाधित करती है और आपके शरीर में रक्त के प्रवाह को रोक देती है।

जबकि हार्ट अटैक एक ऐसी स्थिति है जिसमें हृदय के हिस्से में रक्त की आपूर्ति अवरुद्ध हो जाती है और हृदय का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त हो जाता है। लेकिन हार्ट अटैक के पहले एक घंटे में 30% हार्ट अटैक के मरीज अचानक कार्डियक अरेस्ट से पीड़ित हो सकते हैं और उनकी मृत्यु हो सकती है।

यदि आप किसी को बेहोश पाते हैं तो उस व्यक्ति की मदद करना आपकी जिम्मेदारी है,
1. आप उसे कंधे से हिलाये उसे होश में लाएं
2. उसकी नब्ज चेक करें
3. आपातकालीन एम्बुलेंस को बुलाएं
4. किसी की मदद से उसे सीपीआर दें – हथेलियों से दबाएं छाती के बीच में, इसे 2 – 3 इंच नीचे एक मिनट में 100 – 120 बार की गति से धकेलते हुए, हृदय से रक्त को मस्तिष्क तक पहुँचने देता है।
ऐसा करके आप किसी की जान बचा सकते हैं।
एक व्यक्ति अधिकतम 3-4 मिनट तक ही सीपीआर कर सकता है।

एक बार जब एम्बुलेंस स्थान पर पहुंच जाती है तो कार्डियक टीम मरीजों को बचाने में सक्षम होती है। यह भी देखा गया है कि प्रारंभिक अवस्था में सीपीआर प्राप्त करने वाले 50% रोगियों में जीवित रहने की संभावना अधिक होती है।

▬ Watch The Same Video in Hindi ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
You can also watch this video in Hindi by clicking on the below link:
https://youtu.be/2cl_HmtY-sk

▬Contact Information ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Website: https://www.bestcardiologistpune.com/
Phone No. 020 26161553

Don’t forget to subscribe to our channel:
https://www.youtube.com/channel/UCj8f…

▬Social Links ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

Follow me on other platforms:
Facebook: https://www.facebook.com/Bestcardiolo…
Instagram: https://www.instagram.com/dr_rahul_pa…

▬ About Dr. Rahul Patil ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Dr. Rahul Raosaheb Patil is one of the best cardiologist in Pune, India. He is an accomplished
Interventional Cardiologist, practicing since 2006. He is also the Director and Interventional Cardiologist at Hridayam Heart Clinic in Pune. He has been serving as a Consulting Cardiologist at Ruby Hall Clinic since 2006.

To know more about heart and heart health, stay tuned to our YouTube channels.

Thank you!

8 Amazing Facts About Heart | Dr. Rahul Patil | Best Cardiologist in Pune

In this video, Dr. Rahul Patil – A cardiologist in Pune, has spoken about 8 Interesting facts about the heart:

1. an average heart beats 60-90 beats per minute and pumps about 4 – 5 litres of blood per minute.

2. On average, it can beat around 1lakh beats per day and can pump about 7600-litre blood per day.

3. The blood travels across the body through blood vessels, and if you are going to stretch these blood vessels, they are almost 9600 km in length, where you can go around the world two times.

4. Heart generate ATP (Adenosine triphosphate); it is the energy for pumping the blood. Heart generated almost 25 Kg of ATP per day. A normal heart needs only about 5% of blood out of the total blood pumped out of the heart.

5. Heart is the only organ that consumes about 70 % of oxygen, whereas the entire body consumes around only 30 % of the blood’s oxygen.

6. Females have around 6 – 8 beats more than men. Usually, women are protected from a heart attack until 45, when their menstrual cycle is regular. Postmenopause the risk of a heart attack in male and female are the same. But if the female has diabetes or smokes, the risk of heart attack is higher in females than males.

7. Usually, every human being relaxes on Saturdays and Sundays, but the highest incidences of heart attack are seen on Mondays. We don’t know, but it is said that excessive alcohol or late-night parties could be the reason for Monday heart attack.

8. Most heart attacks are early in the morning, between 4 am to 6 am. The scientific reason for this is that this is the time the body has a high level of blood clotting.

The language used in this video is #English.

▬ Watch The Same Video in Hindi ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
You can also watch this video in Hindi by clicking on the below link:
https://youtu.be/2cl_HmtY-sk

▬Contact Information ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Website: https://www.bestcardiologistpune.com/
Phone No. 020 26161553

Don’t forget to subscribe to our channel:
https://www.youtube.com/channel/UCj8f…

▬Social Links ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

Follow me on other platforms:
Facebook: https://www.facebook.com/Bestcardiolo…
Instagram: https://www.instagram.com/dr_rahul_pa…

▬ About Dr. Rahul Patil ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
Dr. Rahul Raosaheb Patil is one of the best cardiologist in Pune, India. He is an accomplished
Interventional Cardiologist, practicing since 2006. He is also the Director and Interventional Cardiologist at Hridayam Heart Clinic in Pune. He has been serving as a Consulting Cardiologist at Ruby Hall Clinic since 2006.

To know more about heart and heart health, stay tuned to our YouTube channels.

Thank you!

Hi, How Can We Help You?